You will get what you want by The law of attraction- आकर्षण के नियम का रहस्य || THE SECRET LAW…LAW OF ATTRACTION- in hindi

You will get what you want by the law of attraction- आकर्षण के नियम का रहस्य || THE SECRET LAW…LAW OF ATTRACTION- in Hindi

law-of-attraction,the-law-of-attraction
the-law-of-attraction

 दोस्तों   आज   मैं   इस   दुनिया   का   सबसे   और   ब्रह्माण्ड  का सबसे  बड़ा  रहस्य   बताने   जा   रहा   हूँ।  जिसने   इसको    जाना   है। जिसको  इस   रहस्य   पर   विश्वास    है। वो  इस   जगत   में   कभी   ग़रीब   नहीं  हो   सकता   है और  न   ही   दुखी   हो    सकता   है।   क्योकि   ये  सब आप   के   सोचने   और  आप   के   कार्य   पर निर्भर   होता  है।  

                                                      सकारात्मक  सोच  का  जादू
एक   ऋषि   के   दो   शिष्य   थे।  उनमे  से  एक  शिष्य  सकारात्मक  सोच   वाला  था।   वह  हमेशा   दूसरों  की  भलाई  का  सोचता  था  और  दूसरा  बहुत  नकारात्मक  सोच  रखता  था  और  स्वभाव  से  बहुत  क्रोधी  भी  था।  एक  दिन   महात्मा  जी   अपने  दोनों  शिष्यों  की  परीक्षा  लेने  के  लिए  उन्हें  जंगल  में  ले  गए।  
 
जंगल  में  एक  आम  का  पेड़  था।  जिस  पर  बहुत  सारे  खट्टे  और   मीठे  आम  लटके  हुए  थे।  ऋषि  ने  पेड़  की  ओर  देखा  और   शिष्यों  से  कहा  की  इस  पेड़  को  ध्यान  से  देखो।  फिर   उन्होंने  पहले  शिष्य  से  पूछा  की  तुम्हें  क्या  दिखाई   दे  रहा  है।  
 
पहला   शिष्य  जो  सकारत्मक   सोच  का  था।  कहा  की   ये  पेड़  बहुत  ही  विनम्र  है  लोग  इसको  पत्थर  से  मारते  हैं  फिर  भी  ये  बिना  कुछ  कहे  फल  देते  है।  इसी  तरह  इंसान  को  भी  होना  चाहिए ,  कितनी  भी  तकलीफ़   और  परेशानी  आये  उसे  भी  इसी  तरह  विनम्र  रहना  चाहिए।  फिर  दूसरे  शिष्य   से  पूछा  की   तुम  क्या  देखते  हो,  तो 
उसने  क्रोधित  होते  हुए  कहा  की  ये  पेड़  बहुत  धूर्त  और  जिद्दी   है।   
 
बिना  पत्थर  मारे  फल  नहीं  देता  है। इसी  तरह  मनुष्य  को  भी  अपने  मतलब  की  चीजें  दूसरों  से  छीन लेनी  चाहिए। गुरु  जी  हसँते  हुए  पहले  शिष्ये  की  तारीफ़  की  और  दूसरे को  भी  उससे  सीख  लेने  को कहा| कहानी  का  नैतिक  ज्ञान :- आप  कि  सोच  पर  निर्भर  करता है; की आप सकारात्मक  व्यक्ति है या   नकारत्मक व्यक्ति क्योकि  उसके  बाद  ही  आप  action  लेते  है। और  वो  आप  के  सोच  को  बताता है की आप नकारत्मक  व्यक्ति है  कि सकारात्मक  व्यक्ति। 
 

सकारात्मक  सोच कैसे  लाये ???

                                    
 आप   सब   को   तो   पता   ही   है   कि   हमारे  सोच   पर   सिर्फ  हमारा   ही   कब्ज़ा   होता   है।  इसीलिए   हम   जैसा   सोचते   है  हमारा   कार्य   भी   उसी   तरह  की  होती  है ;  तो   मैं   कहना चाहूंगा   कि  अच्छा   सोचे   और  अच्छा बने!

सकारात्मक सोच की  तरफ:- 

1.  अपने  रवैये  तथा  बात  पर  नियन्त्र  रखे :- 

      कई  बार   हम  बिना  सोचे  समझे  कुछ  भी  बोल  देते  है। 

      और  ये  नहीं  देखते  की   इस , शब्द  जो  हमने  बोले  है  इस , से  

      किस  प्रकार  दुसरो  के  लिए   लुकसान   हो  सकता  है। 

      इसी  लिए  बोलने  से  पहले  सोचे  और  वो  भी  अच्छे  सोच  रखे  

      व  सकारात्मक सोच  रखे।  इसके   बाद   आप   देख्नेगे  की  आप  

      का  मन  कितना  निर्मल  और  शांत  है। 
 

2.  अपने  आप  को  शांत  रखने  की  कोशिश  करे :- 

 
      वैज्ञानिक  भी  इसे  मान   चुके   है  की  शांत  और  अकेले   में   सोचे   

      गए   और लिए   गए   निर्णय   कभी   गलत   नहीं  होते  है।  तो   

      इसीलिए  शांत   रहे   और   कुछ   रहे   और   वातावरण   को   सवच्छ     
      रखे।  
 

3.  सकारात्मक  सोच  वाले  से   मिले :- 

      कहते   है   ना   की   जिस   तरह  की   दोस्ती   होगी…   

      उसी   तरह   के दोस्त   होंगे ;  तो   आप समझ   सकते  है   

      की   आप   अगर   अच्छे  सोच   वाले   और  अच्छे   अमीर   सोच   

      वाले के   साथ रहते है।   

      तो  AUTOMATICALLY  आप   की   सोच   भी   उसी   प्रकार   हो  
 

      जाते है।  
                          
                             

4.  अपना   लक्ष्य   बनाये   तथा   उसे   अनुभव   करना  :-

 

       जैसा   की  हम  जानते   है   की   इस   पृथ्वी   पर   हर   इंसान   कुछ   
       ना   कुछ  बनाना   चाहता   है।  पर   कुछ   नाकारत्मक   सोच  
 
       और   नाकारत्मक  वातावरण   की   वजह   से   उसका   सोच   
 
       भी   गन्दा   और   तुछ   हो   जाता   है। 
 
       इसीलिए   आप   भी   इस   4    दिन   की   जिन्दगी    में   एक  
 
       लक्ष्य   बनाये   तथा   उसे   रोज़   जिए   एक  अच्छी   सोच   के  
 
       साथ। 

5.  अपने   से   सवाल   पूछे   और   अपने   सोच   को   बदले :-

 
       वैसे ,  मैंने   तो   सारे   मुख्य    बात   लिख   दिए   है   लेकिन   ये  
 
       तब   तक   सार्थक   और   सिद्ध   साबित   नहीं   हो   सकता   है।  
 
       जब   तक   आप   अपने   से   सवाल   नहीं   पूछेंगे   तो             

       इसीलिए   अच्छे   सोच   और   अपने   लक्ष्य   को   सामने   रख 
 
       कर   उस   से   सम्बंधित   सवाल   करे   खुद   से   ही   तथा            

       अपने   लक्ष्य   के   प्रति   अपना   नजरिया   सकारात्मक  रखे  
 
       और   अपने   सोच   को   बदले   कभी   भी   किसे   के   बारे   में  
 
       गलत   ना  सोचे   तथा   नकारात्मक   को   छोड़   सकारात्मक  
 
       की   तरफ चले। 

                                 

 

# आप  से  कुछ  बात  SHARE  करना  चाहूँगा–       

      

1. ( बॉब प्रॉक्टर )  जो  एक  लेखक  है   वो  मानते  है  कि आकर्षण  का  नियम  हमेशा  काम  करता  है , चाहे  आप इस  पर  यक़ीन  करते  हो  या  नहीं, चाहे  आप  इसे समझते  हों  या  नहीं।  

 

2. डॉक्टर  फ़्रेड  एलन  वोल्फ   जो   एक   भौतिक  शास्त्री   है।

 

आपका   BRAIN   जैसे   विचार  सोचता  है ,वैसे  तस्वीरें जिन्दगी   के  अनुभव   के  रूप  में  आपकी ओर  प्रसारित  होती है।  आप  अपने  विचारो  से न सिर्फ   अपने जीवन  कानिर्माण  करते    है। ब्लकि, विश्व   के  निर्माण  में  भी    प्रबल   योगदान  देते   है। इसीलिए   अगर   आप   सोचते  है   की  आप  महत्तवहीन है , तो एक   बार   फिर   से   सोचे  क्योकि आप  की  सोच   आप   के आस   पास   उस   तरह   का  माहौल  निर्माण  कर  रहा है।
 
                            

तो मेरे दोस्तों आज के लिए बस आप समझ गए होंगे की यह Law कितना ज्यादा PowerFul है तो इसी  के  साथ  मैं  AINESH  KUMAR इस  महान  नियम LAW OF  ATTRACTION  को  समझाते    हुए ; आप  से  विदा  लेता हूँ। 

 
             
आपका  धन्यवाद  !!!


Posted By Ainesh Kumar

Leave a Comment