New Education System 2020 || End Of 10+2 System – Drawbacks Of NEP 2020- Complete Analysis In Hindi || By Ainesh Kumar

New Education System 2020 ||  End Of 10+2 System –  Drawbacks Of  NEP  2020- Complete Analysis In Hindi || By Ainesh Kumar

आज हम इस आर्टिकल को पढ़ेंगे और इस आर्टिकल में देख्नेगे एक बार फिर से इस नए नियम को और आज हम जानेंगे इसके क्या Negative Points है और क्या वाक्य में जो Points मैं बता रहा हूँ वो Negative है .
तो चलिए शुरू करते है हम आज की Journey को और समझते है भावी पीढ़ी की एक अच्छी शिक्षा निति की होने वाली नीव को .
nep-2020,new-education-system-2020
New-Education-System-India-2020


केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा 29 जुलाई को नई शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी देने के बाद, भारतीय शिक्षा प्रणाली की स्थिति पर बहस फिर से शुरू हो गई है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी दे दी थी। यह 21 वीं सदी की पहली शिक्षा नीति है . दोस्तों आप को बता दू की इस नयी शिक्षा निति के Underकहा गया है की नई नीति में 2030 तक स्कूली शिक्षा में 100 प्रतिशत सकल नामांकन अनुपात (GER=Gross Enrolment Ratio) के साथ पूर्व-माध्यमिक से माध्यमिक स्तर तक शिक्षा के सार्वभौमिकरण का लक्ष्य है और 2025 तक उच्च शिक्षा में GER को 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य है। 2030 तक, शिक्षण के लिए न्यूनतम डिग्री योग्यता 4-वर्षीय एकीकृत बी.एड. डिग्री।

नई शिक्षा नीति 2020 की मुख्य विशेषताएं

1. 10+2 से 5+3+3+4 क्या है?

लोगो का कहना है की इस प्रक्रिया में 10 + 2 सिस्टम को हटा कर 5+3+3+4 कर दिया गया है जिसमे Completely और ज्यादातर विदेशों में चल रहे शिक्षा निति के सामान समझा जा सकता है। स्कूल पाठ्यक्रम की 10 + 2 संरचना को क्रमशः 3-8, 8-11, 11-14 और 14-18 वर्ष की आयु के अनुसार 5 + 3 + 3 + 4 पाठयक्रम संरचना द्वारा प्रतिस्थापित किया जाना है। इसमें 12 साल की स्कूली शिक्षा और तीन साल की आंगनवाड़ी और प्री-स्कूलिंग शामिल होगी।

2.अब नहीं रही Stream का झंझट Science, Commerce And Humanities

अब न कोई Science का Student होगा नहीं Commerce का और ना ही Humanities का जो मन में है बस आप वो पढ़ सकते है लेकिन इसमें भी कोई Guidelines जरूर होगी वो तो बाद में पता चलेगा। राज्य 2025 तक ग्रेड 3 द्वारा सभी शिक्षार्थियों के लिए सभी प्राथमिक स्कूलों में सार्वभौमिक मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्राप्त करने के लिए एक कार्यान्वयन योजना तैयार करेंगे।

3.क्या कहती है नए नियम Languages को लेकर … 

अब आप को English को Subject के Perspective से ही पढ़ाया जाएगा। दोस्तों पुराने नियम अनुसार ये था की आप को इंग्लिश को ज्यादा Priority देना होता था  और हमारी मात्र भाषा व जन्म भूमि भाषा को कम लेकिन आप  पता है की नए नियम के मुताबिक 5 क्लास तक बच्चे अब अपने मात्र भाषा में पढ़ाई करेगा और जब वो 6 Class में जाएगा तब उसको हिंदी और इंग्लिश दोनों  किसी  साथ पढ़ सकते है लेकिन 5 तक यह Confirmed है की बच्चे अपने मात्र भाषा में ही शिक्षा प्राप्त करेगा।

4. व्वहारिक ज्ञान और Semester System पर ज़ोर 

अब इस नए नियम में बच्चे जब 6th क्लास में जायेगा तब उसे Computer Coding की भी शिक्षा दी जायेगी साथ ही बच्चे Internship के लिए भी जा सकता है। यानी की अब चीन व जापान जैसे देश की तरह अब भारत बच्चे भी छोटे उम्र से ही टेक्नोलॉजी को समझने लगेगा।
Semester Wise System : कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों का  साल में दो बार Exam होगा। इसमें आप को हर 6 महीने में एक एग्जाम देना होगा और लास्ट में यानी साल के अंत में आपको पूरा Curriculum और Activity को देख कर नंबर दिया जायेगा और अब आप ने जो Extra Curriculum में भाग लेंगे उसके भी नंबर आपके रिपोर्ट कार्ड में जोड़ा जाएगा।

5.Report Card As 360° Assessment 

नई नियम  अनुसार आप अपने आप को Marks देंगे की आखिर आपने पुरे साल किस-किस Activities और Extra Curriculum में Participate किये है, इत्यादि।

6. After 12 Class: College Level पर बदलाव 

इस Multiple प्रोग्राम में आप कई स्तर पर कॉलेज डिग्री ले सकते है जैसे की आप मान लीजिये की आप B. Tech करना चाहते है जिस कोर्स का Duration 4 वर्ष का है, लेकिन आप साल ख़त्म होते ही उस कोर्स से Bored  हो रहे है तब आप जा सकते है और आप जिस भी  कॉलेज को Select करना चाहते है वो आप आसानी से कर सकते है।क्योकि, आप जो पहले साल में जो भी Credits पाए है वो दूसरे डिग्री में ट्रांफर कर सकते है और वहाँ  Continue कर सकते है उससे आपके Graduation पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

7.Focus On Vocational Education

इस नयी शिक्षा निति में Vocational Education पर भी ज़ोर दिया जाएगा यानी अब Students को कारपेंटर, Mechanic और भी कई सारे स्तर के काम को समझने का मौका मिलेगा।

इसके अतरिक्त आप को बहुत से फायदे देखने को मिलेगा इस  न्यू एजुकेशन पालिसी से “” एक राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति तैयार की जानी है।””NEP वंचित क्षेत्रों और समूहों के लिए जेंडर इंक्लूजन फंड और विशेष शिक्षा क्षेत्र की स्थापना पर जोर देती है। मुक्त विद्यालय के बुनियादी ढांचे का उपयोग समाज चेतना केंद्रों के रूप में किया जा सकता है। NEP 2020 का उद्देश्य उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात को बढ़ाना है जिसमें व्यावसायिक शिक्षा को 2018 में 26.3 प्रतिशत से बढ़ाकर 2035 तक 50 प्रतिशत करना और उच्च शिक्षा संस्थानों में 3.5 करोड़ नई सीटों को जोड़ना है।

दोस्तों इस तरह के और भी बहुत से इस नई शिक्षा नीति 2020 की मुख्य विशेषताएं वो आप इस लिंक के माध्यम से देख सकते है .

यह भी देखे :

Positive बात क्या है NEP 2020

1. 6% का जीडीपी होगा शिक्षा के लिए

मैं आप को बता दूँ की अभी तक इंडिया में जो  शिक्षा के लिए पैसे खर्च किये जा रहे थे वो लगभग 2.8 % से 3 % के बिच में था लेकिन New Education Policy के द्वारा इसका ( EDUCATION ) GDP 6% तक बढ़ाने की बात की गयी है . तो दोस्तों अब तो इस न्यू एजुकेशन पालिसी के आने का Wait है  हम सभी को . आप सोच सकते है की इस नियम के लागू होने के बाद इंडिया के एजुकेशन सिस्टम काफी Boost करेगा .

2. स्कूल की फीस में कमी

दोस्तों पहले क्या होता था बहुत सारे प्राइवेट और सरकारी स्कूल में मनमानी तरीके से फीस Structure बढ़ा दिया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं होगा कोई भी स्कूल एक निश्चित Amountतक ही फीस बढ़ा सकता है उससे ज्यादा नहीं और जो स्कूल सरकार के नियम को नहीं मानेगा उसे सजा भी हो सकती है .

3. Foreign यूनिवर्सिटीज़ अब इडिया में संभव

NEP 2020 के अनुसार अब अगर कोई विदेशी यूनिवर्सिटी इंडिया में अपना यूनिवर्सिटी  Open करना चाहता है तो वो अब कर सकता है, इसमें टॉप 50 यूनिवर्सिटीज़ ही आ सकेगी . और इस से ये फायदा होगा की हमारे इंडिया के भी यूनिवर्सिटी अच्छा बनेगा क्यूकि उसको एक Top Level का  Competitor मिलेगा . और

4. Teachers बनने के लिए  ट्रेनिंग 4 साल की होगी अब से

नई नियम के अनुसार अब जो शिक्षक आयेंगे उसे 4 साल की ट्रेनिंग दी जाएगी जिसमे सिखाया जाएगा की कैसे बच्चे को पढाना है, कैसे उसे समझाना है, etc.आप ने देखा होगा की कुछ टीचर बहुत कुछ जानते है लेकिन  समझा नहीं पाते पर वही पर कम नॉलेज वाले टीचर अच्छे से समझा देते है और Subject को कैसे Interesting बनाया जाए . इस नियम के अनुसार यही सब सिखाया जायेगा .

Negative बात क्या है NEP 2020

1. English को कम महता देना

NEP ( New Education Policy ) 2020 के अनुसार  अब  इंग्लिश भाषा को उतना महत्व नहीं दिया जाएगा लेकिन वो आप के ऊपर होगा की आप अपने बच्चे को किस भाषा में पढाना चाहते है लेकिन सरकार कहती है की 5 class से निच्चे के बच्चे सभी को हिंदी में ही पढाया जायेगा लेकिन 8 class के बाद आप दोनों (हिंदी /English) में से कोई भाषा Choose कर सकते है .

2. Central नियम

इस न्यू Policy के अनुसार जो Central Govt. नियम बनाएगी वो States Govt. को माननी पड़ेगी . पहले यह नहीं होता था सब स्टेट के लिए एक अपना-अपना नियम और कानून होता था लेकिन हाँ कुछ-कुछ जगह पर नहीं लेकिन अब पूरे तरीके से सेंट्रल Govt.पर ही सभी सिस्टम के Rights होने वाले है .

तो, दोस्तों आप ने इस नये नियम के  पॉजिटिव और नेगेटिव दोनों Points देख लिए है . आप समझ भी गये होंगे की सरकार की यह नियम क्या है ….तो दोस्तों अगर आप ने इस ब्लॉग से कुछ ज्ञान सिखा तो प्लीज इस ब्लॉग को अपने दोस्तों में Share करे साथ ही Comment कर के बताये की आप इस नए नियम में क्या सुधार करना चाहते है .

Posted By Ainesh Kumar

यह भी जाने :

2 thoughts on “New Education System 2020 || End Of 10+2 System – Drawbacks Of NEP 2020- Complete Analysis In Hindi || By Ainesh Kumar”

Leave a Comment