INTERESTING & AMAZING FACTS ABOUT PLUTO IN HINDI !! ब्रम्हांड के सबसे रोचक तथ्य !!!

INTERESTING  &  AMAZING  FACTS  ABOUT  PLUTO IN  HINDI ||  ब्रम्हांड के सबसे रोचक तथ्य 

pluto-facts-in-hindi

 

 

 

 

 

 

 

 

जाने  कुछ  रोचक   तथ्य   PLUTO  PLANET   के  बारे   में  – Pluto Planet In Hindi

जैसा   की   हम   जानते   है    कि    PLUTO  को  एक  बौना  ग्रह ( The Dwarf  planet ) के  रूप  में  भी   जाना   जाता   है! 24   अगस्त   2006   को  अन्तर्राष्ट्रीय   खगोल  संघठन (IAU =The International Astronomical Union )  ने   प्लूटोको
बौना   ग्रह   की  श्रेणी   में   रख  दिया !चूकि, PLUTO  को  पहले   एक ग्रह   माना   जाता  था !  परंतु , कुछ  कारणों   की  वजह  से   उसे  बौने  ग्रह   की   श्रेणी   का   दर्जा  दे  दिया  गया  ! 2006  से   पहले ,  जब   इसे   ग्रह   का   दर्जा   दिया  जाता   था  तो, pluto   को   मिला   कर  कुल   ग्रहो   की   संख्या   9   थी।  जो   2006   के   बाद   8   हो   गयी !!!

# PLUTO   के   रोचक   HISTORY   की   कैसे   इसे   ढूँढा  गया !!!

 

1 . प्लूटो   की  खोज  18th  February 1930   में   खगोल   विज्ञानी Clyde W. Tombaugh   के   द्वारा  कि   गई  थी;   जो   उस समय Arizona   के  Flagstaff   में   Lowell  Observatory  में काम कर रहे थे। 


2 .चूकि, Clyde W. Tombaugh  ने  प्लूटो   को   गलती   से   खोज लिया   था   जबकि   वे   PLANET – X   नामक  एक  अज्ञात   ग्रह   की तलाश  में   था  जो   URANUS  and  NEPTUNE  की  कक्षाओं  में गड़बड़ी  पैदा  कर  रहा  था .

 

 
3. 1930  में , प्लूटो  का  नाम  ऑक्सफॉर्ड  स्कूल  ऑफ  लंदन  में पढ़ने  वाली  11वीं  की  छात्रा  वेनेशिया  बर्ने  ने  रखा  था. इस  बच्ची ने  कहा था  कि  रोम  में  अंधेरो  के  देवता को प्लूटो  कहते  हैं, इस ग्रह  पर  भी हमेशा  अंधेरा  रहता  है, इसलिए  इसका  नाम PLUTO
रखा जाए। 
 
4. PLUTO  का  नाम  11वीं   में  पढ़ने  वाली  छात्रा  वेनेशिया  बर्ने  के नाम  पर  रखा  गया था ; तथा  इसे  इनाम  के  तौर  5  POUND  दिए गए थे। 
 
5. इस  ग्रह  के  SOLAR -SYSTEM  में  होने  की उपस्तिथि और  भविष्यवाणी  PERCIVAL  LOWELL  ने  की  थी। 
 

6. NASA (National Aeronautics and Space Administration)   के  द्वारा LAUNCH  किया  गया  अंतरिक्ष -यान  का  नाम  NEW  HORIZONS था ;जिसे  2006  में  भेजा  गया  था।


7. NEW -HORIZONS  यान  जो  एक  PIANO  के  आकार  का  था ; उसे  सिर्फ  PLUTO  के  बारे  में  बताने  के  लिए  बनाया  गया  था। 

 
# PLUTO  के  आंतरिक  और  बाहरी   संरचना !( Pluto planet in hindi )
 
1. प्लूटो  की  अपनी  सूरज  से  AVERAGE   DISTANCE 5,906,380,00 किलोमीटर  है। 
 
2. अपने  सूरज  का  एक  चक्र  लगाने   में  247  साल  लग  जाते  है। 
 
3. प्लूटो  1930  से  अभी  तक  अपने  ही  ऑर्बिट  का  1 /3  ही  पूरा कर  पाया  है ;तथा  इसे  150  सौ  साल  और  लगेंगे  ORBIT   को  पूरा  करने  में। 
 
4. अपने  सूरज  से  प्लूटो  की  दूरी  ज्यादा   होने की  वजह  से  यहाँ  का  AVERAGE  तापमान  MINUS  तक  होता  है  करीब -करीब  225 -230 °C तक। 
 
5. IAU  के  द्वारा  वह  सारे  PLANET  होगा  जो  अपने  आस- पास  के  पदार्थ  को  अपने  गरूत्वाकर्ष  से  खींचेगा। चूकी ; यही  वो  मुख्या  कारण  है  जिसकी  वजह  से इसे DWARF- PLANET  कहा  जाता  है। परंतु , इसके  और  भी कारण   है। जैसे  प्लूटो  पूर्व  से  पच्छिम  की तरफ  घूमता  है तथा  प्लूटो  अपनी  धुरी  पर   बहुत  ही  धीमा  घूमता है।अपने  EARTH  के 1 – दिन  के  मुकाबले  उसके 4 – 5 होते है। 
 
 
6. प्लूटो का  बहुत पतला  वायुमण्डल  है  जिसमे नाइट्रोजन, मीथेन तथा  कार्बन डाइऑक्साइड  है। 
 
 
7. अगर  हम  कैसे  भी  कर  प्लूटो  पर  चले  जाते  है  तो  वहाँ  का  नज़ारा  कुछ   ऐसा  होगा  जैसा  इस  चित्र  में  है।

# PLUTO  भाई -साहब  के उपग्रह !!! ( Pluto’s Moon In Hindi )

चूकि,अभी  तक  हम  जितने  भी  बात  की  है  उस  से  पता  चलता है   की  प्लूटो  बहुत  ही  छोटो  ग्रह   है  हमारे  अपने  बाकी PLANETS से  पर  फिर  भी  ये  अपने  जैसे  DWARF -PLANET के  राजा  है। और  राजा  होने  के  नाते  इसके  कुछ  सेवक  भी  होने चाहिए  तो  इसी लिए  अब  हम  इसके   उपग्रह  के  बारे  में  बात करेंगे। 
ज्ञात  आंकड़ों  के  अनुसार  प्लूटो  के  5  उपग्रह  है :-
 
1. प्लूटो  का  सबसे   बड़ा  उपग्रह  CHARON  है ; जो  18.5 हजार    570  KM  की  दुरी  से  इसका  चक्र  लगा  रहा   है।  CHARON     अपने  ग्रह  के आधा  भाग  के  बराबर  है। 
 

2.  StyxNixKerberos, and Hydra.

तो दोस्तों आज के लिए बस इतना ही और मैं आशा करता हूँ की आप सब को प्लूटो के बारे में जो जानकारी चाहिए थी वो आप को मिल गयी होगी और आप अच्छी तरह समझ भी गए होंगे।

तो  आखिर  में  मैं  यही  कहना  चाहूंगा  की  मैंने  अपना  काम  कर दिया

है ;अब  आप की  बारी  है  इसे  पढ़े  और  इसे  SHARE  करे।

आपका  धन्यवाद  !!!

 
 
Posted By Ainesh Kumar
 

Leave a Comment